क्या आपको पता है हेलीकॉप्टर का माइलेज कितना होता है ?

 

दोस्तों क्या आपको पता है हेलीकॉप्टर का माइलेज कितना होता है और इसकी कीमत कितनी होती है अगर आप इसके बारे में कुछ नहीं जानते तो आज हम आपको  इसी के बारे में बताने जा रहे हैं दोस्तों आपने हेलीकॉप्टर तो बहुत देखे होंगे पर शायद अपने हेलीकॉप्टर में सफर भी किया हो इन्हे देखने के बाद आपके मन में ये सवाल जरूर आया होगा की हेलीकॉप्टर की कितने का एवरेज देते हैं हेलीकॉप्टर हवाईजहाज की तरह ही उड़ता है लेकिन इसकी बनावट हवाई जहाज से बहुत अलग होती है हवाई जहाज उड़ने के लिए जेटइंजन का सहारा लेते है वहीँ हेलीकॉप्टर उड़ने के लिए उड़ने के लिए पंखनुमा प्लेट का सहारा लेते है इसके आलावा भी दोनों में काफी अंतर है। बात करें हेलीकॉप्टर की तो इन्हे ज्यादातर मलिट्री में या फाइटर में या विाईपी लोगों के आने -जाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है हम सभी जानते हैं की हेलीकॉप्टर की केपिसिटी और उड़ने की रफ़्तार हवाई जहाज से बहुत काम होती है लेकिन एक चीज है हेलीकॉप्टर को हवाईजहाज से अच्छा बनती है और वो है हेलीकॉप्टर किसी भी सिंपल जगह से उड़न भर सकता है जबकि हवाई जहाज को उड़ने के लिए रनवे की जरुरत पड़ती है। दोस्तों चलिए अब आपको बताते हैं हेलीकॉप्टर का माइलेज कितना होता है ? दोस्तों दुनिया भर में हेलीकॉप्टर अलग -अलग तरह के होते हैं कुछ इतने बड़े होते हैं की वो किसी साधन को भी साथ में उड़ा ले जाते है जबकि कुछ इतने छोटे होते हैं जिनमे दो से चार लोग बैठ सकते है

 

इसमें हम रॉबिंसन R 44 रैवेन 2 हेलीकॉप्टर की बात करने जा रहे हैं रॉबिंसन कंपनी ने इस हेलीकॉप्टर के बारे में कई जानकारी साझा की है जिसके मुताबिक इसकी टॉप स्पीड 180 किलोमीटर प्रति घंटे से 240 किलोमीटर प्रति घंटे की होती है रॉबिंसन R 44 रैवेन 2 हेलीकॉप्टर में ईंधन यानि फ्यूल के दो टेंक होते हैं जो मुख्य टेंक होता है उसकी केपेसिटी 20 लीटर होती है और जो दूसरा टेंक होता है उसकी कैपेसिटी 70 लीटर होती है इस हेलीकॉप्टर के वजन की बात की जाये तो इसके खाली होने पर इसका वजन लगभग 657 KG होता है जब इसमें फ्यूल और अन्य जरुरी सामान लोढ़ कर दिया जाता है तो इसका वजन लगभग 1134 किलोग्राम तक ये एक घंटे में 50 से 60 लीटर फ़्युअल खत्म करता है साथ ही इसमें एक मिल तक उड़ने के लिए फ़्युल की जरुरत पड़ती है इस एवरेज निकलने के लिए अगर इस हेलीकॉप्टर की स्पीड 180 किलोमीटर प्रति घंटे की मान ली जाये तो ये हेलीकॉप्टर 1 लीटर फ़्युल में 3 से 4 किलोमीटर की उड़ान भर सकता है, इससे आपको अंदाजा लग जायेगा की हेलीकॉप्टर का एवरेज कितना होता है तो दोस्तों अब आप जान गये होंगे की हेलीकॉप्टर का माइलेज कितना होता है इसका एवरेज साइज पर भी डिपेंड करता है अगर हेलीकॉप्टर बड़ा है तो उतना ज्यादा फ्यूल की खपत करेगा रॉबिंसन R 44 रैवेन 2 हेलीकॉप्टर के उदाहरण से आपको इसके एवरेज के बारे में काफी कुछ अंदाजा लग गया होगा।

अब बात करेंगे हेलीकॉप्टर की कीमत की आमतौर पर लोग यातायात के लिए बाइक,कार या फिर साइकिल खरीदने की सोचते हैं लेकिन क्या आपने कभी हेलीकॉप्टर खरीदने के बारे में सोचा है यहां हम आपको एक नार्मल हेलीकॉप्टर की कीमत बताने जा रहे हैं जिससे आप अंदाजा लगा सकते हैं की हेलीकॉप्टर कितने में मिलता है अगर आप हेलीकॉप्टर खरीदते हैं तो इसके लिए आपको कितने पैसे खर्च करने पड़ेंगे ? हेलीकॉप्टर का उपयोग वायुसेना के आलावा बड़े – बड़े बिज़नेस मेन और सेलिब्रटीज सफर के लिए करते है इनका अपना पर्सनल हेलीकॉप्टर होता है यह खरीदना हर किसी के बस की बात नहीं है क्यूंकि इसकी कीमत अधिक होती है सक्षम लोग ही इस हेलीकॉप्टर को खरीद सकते हैं अगर आप एक आम आदमी हैं तो शायद ही आपने हेलीकॉप्टर में सफर किया होगा क्यूंकि इसमें सफर करना काफी खर्चीला होता है वैसे आपको बता दे की हेलीकॉप्टर में सफर करने का अपना एक अलग ही मजा होता है हेलीकॉप्टर में सफर करने के बाद निचे देखने पर धरती काफी अलग नजर आती है। चलिए अब आपको बताते हैं की हेलीकॉप्टर की कीमत कितनी है

वेबसाइट में मौजूद रिपोर्ट के मुताबित रॉबिंसन R 44 रैवेन 2 हेलीकॉप्टर की कीमत करीब 2 लाख 50 हजार US डॉलर है जो भारतीय रुपयों में करीब 1,71,23,750 रूपए होते हैं ये दो शीट वाला हेलीकॉपर है जो काफी सस्ता परिचालन देता है इसे दुनिया का सबसे किपायति हेलीकॉप्टर माना जाता है परिचलन लागत कम होने के कारण इसका उपयोग अक्षर शिक्सण जैसे कामो में किया जाता  है।

बात करें दूसरे हेलीकॉप्टर बेल्ल B 206 जेंगरेटर की तो इसकी कीमत 700,000 US डॉलर है इसे भारतीय रुपयों में कन्वर्ट किया जाये तो 4,79,11,500 रूपए बनता है ये काफी लोकप्रिय हेलीकॉप्टर है जो पांच शीटों के साथ आता है इसका उपयोग सेना और नागरिकों दोनों के लिए किया जाता है इस तरह मोडल के हिसाब से इनकी कीमत अलग -अलग होती है लेकिन यहां आपको सभी की कीमत करोड़ों में देखने को मिलेगी। साल 1939 में सिकोर्स स्काई ने पहले प्रोटोटाइप हेलीकॉप्टर VS 300 का निर्माण किया था इसे युनाइटेड एयर ग्राफ्ट कोरोपोरेसन की सिक्युरिटी डिवीज़न के अंदर गया था हलांकि इसे बहुत पहले फ्रांस में 1907 से हेलीकॉप्टर बनाने का प्रयोग शुरू कर दिया था। यदि हवा में हेलीकॉप्टर का इंजन किसी कारण बंद हो जाता है तो रोटर मशीन हेलीकॉप्टर को धीरे- धीरे निचे ले आता है कई हेलीकॉप्टर खराब मौसम में भी सुरक्षित होते हैं क्योंकि इसमें ऐसी टेक्निकलोजी का इस्तेमाल किया गया होता है जिससे यह धीरे- धीरे ज़मीन पर आते हैं,

अमेरिका एक ऐसा देश है जिसके पास सबसे ज्यादा हेलीकॉप्टर है सिर्फ USA में 11हजार से अधिक सिविल हेलीकॉप्टर संचालित है जबकि दुनिया में 157 से अधिक देशों में 15 हजार सिविल हेलीकॉप्टर संचालित है यदि आर्मी हेलीकॉप्टर की बात करें तो दुनिया भर में 45 हजार से अधिक आर्मी हेलीकॉप्टर है। दोस्तों अब आप जान गए होंगे की हलिकोप्टर का माइलेज कितना होता है और इसकी कीमत कितनी होती है वैसे देखा जाये तो सबसे सस्ते हेलीकॉप्टर की कीमत भी लगभग डेढ़ करोड़ रूपए है ऐसे में इन्हे सिर्फ वही लोग खरीद सकते हैं जिनके पास करोड़ों रूपए होते हैं भले ही आप  खरीद नहीं सकते लेकिन किराये में सफर तो कर ही सकते है बड़े बड़े शहरों में हेलीकॉप्टर से शहर घुमाने की सुविधा मौजूद होती है ऐसे में कुछ रुपयों का किराया देकर आसमान का सफर कर सकते हैं दोस्तों आपको ये जानकारी कैसी लगी हमे कमेंट करके बताये

जानने के लिए क्लिक करे :- दुनिया के 5 सबसे खतरनाक प्लेन Landings जो कहीं भी उतर जाते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *