प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के घर में है सुरंग ,जाती है कहाँ जानिए

नरेंद्र मोदी का वो बंगला जो पहले सात रईस करोड़ कहा जाता था ,उसका नाम बदल कर रख दिया है लोक कल्याण मार्ग,पीएम आवाज़ की सबसे खास बात यह है कि उनकी आवाज़ के नीचे से एक सुरंग जाती है और खान निकलती है यह सुरंग आयिए जानते है |

इससे पहले आपको प्रधानमंत्री निर्माण के स्ट्रक्चर और इसके इतिहास को जानना जरूरी है ,आज भी पीएम आवाज़ की ज्यादा जानकारी किसी को नहीं है क्युकी यह सुरक्षा का मामला है लेकिन इसने कुछ रिहस्यो को जागृत किया है कुछ किताबो ने,जिनके नाम है थे एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर और विजेंदर अग्रवाल की किताब वजप काल आज और कल,इंकिताबो से पीएम के कुछ बंगलो की जानकारियां मिलती है ,सेवन रस कोर का बंगला ब्रिटिश कालीन है और इसका डिजाइन रॉबर्ट तौर रश्ल ने किया था और उनके गुरु थे एडमिन लुटियंस और आपको बता दे की दिल्ली में जितने भी लोक सभा और राज्य सभा पीएम आवाज़ है यह सब एडमिन लुटियंस ने बनाए है ,और यही कारण है कि लोग दिल्ली को लुटियंस की दिल्ली भी कहते है ,प्रधान मंत्री आवाज़ पूरे 12 अकड़ मै फेला हुआ है इसमें एक नहीं पूरे 6 बंगले है और इन बंगलो को इनके नम्बर से पहचाना जाता है और इन सभी बंगलो के नम्बर ओड नम्बर में और इनके नम्बर। कुछ इस तरह है 1 ,3,7,5,9  कुछ इस तरह से इन बंगलो की पहचान होती है |

मोदी जी भारत के पहले ऐसे प्रधानमंत्री है जो अकेले ही यहां रहते है हालांकि इसे पहले कहीप्रधानमंत्री हुए जो अपने परिवार के साथ रहा करते थे गांधी जी का पूरा परिवार इस बंगले में रहा करता था आपको बता दे कि पंडित जोहार लाल नहरू जी सबसे पहले तीन मूर्ति भवन रहे है लेकिन जब बो गुजर गए तो उसे भवन को एक मूजियम में तब्दील कर दिया गया जोहार लाल न्हरू के बाद आए लाल भादुरशास्त्री और बो उस समय दस जनपत में रहते थे लेकिन जब उनकी मृत्यु हुई उस भवन के कुछ हिस्से को मियुजियम बना दिया गया और उसका नाम रखा गया मोती लाल नेहरू मार्ग इस भवन के दूसरे हिसे को कोंग्रस का दफ्तर बना दिया गया और इसके एक हिस्से में सोनिया गांधी आज रहती है उसके बाद आई इंदिरा गांधी जो जनक के एक भवन में रहती थी लेकिन उनकी हत्याके बाद उस भवन को इंद्रा गांधी मूजियम बना दिया गया और उसके बाद आए राजीव गांधी जो सेवन रेस कोर रोड पर रहे जहा अब मोदी जी का निवास है राजीव गांधी के बाद प्रधानमंत्री बने बी पी सिंह और उन्होंने तीस मई 1990 को एक नया कानून बनाया कि अब जो भी प्रधानमंत्री बनेंगे अब बो सभी सेवन रेस कोर रोड पर ही रहे गए यानिकी पीएम का निवास अब सेवन रेस कोर रोड पर ही होगा और यही कारण है इस कानून के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी सेवन रेसकोर रोड पर ही रहते है जिसका नाम अब लोक कल्याण मार्ग रख दिया गया है

चलिए अब चलते है पीएम आवाज़ पर अशोका होटल से एक रास्ता जाता है जो सीधे पीएम आवाज़ की तरफ जाता है जैसे आप इस रास्ते में इंटर करेंगे तो आपकोएसपीजीएन के जवान मिल जाएंगे ये वहग्रुप है जो प्रधानमंत्री की सुरक्षा करता है जो कोई भी इस रास्ते में आताहै उसकी गहन तलाशी ली जाती हैं इस रास्ते में घुसने के बाद सबसे पहले आता है बंगला नम्बर आता है 9 और उसके बाद आता है बंगला नंबर 7 ये बंगला नरेंद्र मोदी जी जादा तर ऑफिस के उपर इस्तेमाल करते हैं और इसी बंगले की पहले इस आवाज़ को सेवन रेस कोर रोड कहा जाता था ,सत नंबर के इस बंगले मै मोदी जी ज्यादा तर हाई प्रोफ़ाइल लोगो से बात करते है इसके बाद आता है पांच नंबर का बंगला यह भी बंगला है जहा मोदी जी अभी रहते है लेकिन इस से पहले प्रधान मनमोहन सिंह तीन नंबर के बंगले मै रहते थे ,तब पांच नंबर का बंगला गेस्ट हाउस हुए करता था ,लेकिन मोदी जी ने रहने के लिए पांच नंबर का बंगला है चुना ,बता दे कि मोदी जी रहते है पांच नंबर के बंगले मै और उनका ऑफ़िस सात नंबर के बंगले मै और वह हर रोजअपने ऑफिस जाने के लिए बुलेट प्रूफ़ क्लास ट्यूब मै चल कर अपने ऑफिस तक जाते है और अब बात करते है बंगला नंबर एक कि जिसकी छत परहेलीपैड बना हुआ है यही से बैठकर एक जगह से दूसरी जगह चले जाते हैं

चलिए अब बात करते है उस सुरंग की जिसका आपको बेसब्री से इंतजार है आपको बता दे ये सुरंग नरेंद्र मोदी जी के घर से होकर जंग एयरपोर्ट तक जाती है ये सुरंग पूरी डेड किलोमीटर लंबी है इस सुरंग को मनमोहन सिंह के कार्यकाल में बनाया गया था इसका काम 2010 मे शुरू हुआ और 2014 में इसका काम पूरा हो गया लेकिन तबतक मनमोहन सिंह जीका कार्यकाल पूरा हो चुका था ओर उसके बाद पीएम बने मोदी जी और तब से ही मोदी जी उसका इसतेमाल करते आ रहे हैं |

जानने के लिए क्लिक करे :- Russia भारत को S400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम देने से आखिर क्यों बेचैन है चीन ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.