दुनिया के देशों द्वारा साथ देने पर ISRAELने बोला INDIA कब देगा ?

जिस बात की आशंका जताई जा रही थी ठीक वैसा ही जैसे की में पिछले कई दिनों से कह रहा था की UN सिक्योरिटी काउंसिल के सभी परमानेंट सदस्य और बाकी दुनियां के सभी प्रमुख देश इजरायल और पलिस्तीन संघर्ष पर अपनी प्रतिक्रिया दे चुके है और सबने क्लीयर कर दिया है की उनकी सरकार का इसको लेकर क्या स्टैंड है लेकिन भारतीय सरकार ने अभी तक इस इशु पर कुछ भी नही बोला था क्योंकि जो भारतीय डिप्लोमेट्स ने जो UN सिक्योरिटी काउंसिल में बोला था उसको क्नसिडर नही किया जा सकता है क्योंकि वो UN सिक्योरिटी काउंसिल के 15 सदस्य देशों की एक क्लोज डोर मीटिंग थी !

यहाँ पर भारतीय सरकार की तरफ से फ़ौरन मिनिस्टर SD शंकर या प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी या फिर सरकार की किसी स्पोक्स पर्सन को ही कम से कम इस पर एक स्टेटमेंट दे देनी चाहिए थी या फिर इनको इजरायली काउंटर पार्ट से एक फोन कॉल पर बात कर लेनी चाहिए थी जैसा दुनियां के बाकी देशों के PM , प्रेजिडेंट्स और फ़ौरन मिनिस्टर ने किया ! अब इजरायली PM ने की स्टेटमेंट और जिस तरह की उन्होंने अपने सेना टेंक , तोपों, फाइटर डेथस , गाजापटी से सट्टे बोर्डर पर तैनात कर दिया उससे ऐसा लग रहा है की इजरायल या तो गाजापटी में हमास को और पीछे धकेल कर उनकी कुछ और ट्रैक्स पर अपना कंट्रोल स्थापित करेगा ऐसे में आज के समय इजरायल को जितना ज्यादा इंटरनेशनल सपोर्ट मिले उतना ही कम है और यही असली मौका है जब यह काउंट होगा की इजरायल के सपोर्ट में कौन सा देश सामने आया था और कौन से देशों ने मूंह फेर लिया था और यह चीज बाकी कोई नोटिस करे या न करे इजरायल और इजरायल की पोलिटिकल लीडरशिप जरूर करेगी जोकि इजरायली प्रधानमन्त्री बेंजामिन नेतान्याहू की पिछले कल की स्टेटमेंट से भी क्लीयर हो जाता है की वो यह सब नोटिस कर रहे है की कौन सा देश उनको सपोर्ट दे रहा है और कौन सा नहीं ! दरअसल द टाइम्स ऑफ़ इजरायल मीडिया से मिडिया रिपोर्ट सामने निकल कर आ रही है की इजरायली प्रधानमन्त्री बेंजामिन नेतान्याहू ने अमेरिका और यूरोपियन देशों के सपोर्ट देने पर आभार व्यक्त किया है और कहा है की यही सब देश है जो मुश्किल घड़ी में सपोर्ट कर रहे है !

रिपोर्ट्स के मुताबिक़ बेंजामिन नेतान्याहू ने नाम लेकर प्रेजिडेंट रयूवें रिव्लिन , प्रेजिडेंट ऑफ़ फ़्रांस इम्मानुएल मेक्रों ,ब्रिटिश PM बोरिस जॉनसन ,जर्मनी की चांसलर इंगला मर्कल और ऑस्ट्रिया की चांसलर इजरायल को समर्थन देने के लिए इन सब की सराहना की ! बेंजामिन नेतान्याहू ने एक विडियो में मैसेज में कहा इन सभी देशों ने हमारे अपने बचाव और हमारी अपनी रक्षा करने के प्राकृतिक अधिकार को बरकरार रखा जिसका इस्तेमाल हम इन आतंकियों के खिलाफ लड़ाई में कर रहे है जो सिविलियंस में हमला भी करते है और उनके पीछे छुपते भी है ! इसी के साथ इजरायल के फ़ौरन मिनिस्टर गाबी अश्केनाज़ी ने भी कहा है की पिछले कुछ दिनों से इजरायल को पूरी इंटरनेशनल कम्युनिटी से कई लीडर के सपोर्ट और मेसेजज मिले है उन्होंने जर्मनी के फ़ौरन मनिस्टर हाइको मॉस की भी तारीफ़ की है जिन्होंने इजरायल के समर्थन में यह कहा था की हिंसा और गम्भीर मानवीय परिणामों के लिए हमास ही जिम्मेदार है इजरायल नही ! इजरायल तो अपने आपको डिफेंड करता है क्योंकि उसको डिफेंड करना पड़ता है इसी के साथ इजरायली विदेश मंत्री आश्केनाजी ने फ़्रांस के विदेश मंत्री की भी तारीफ़ की और कहा की हमास के हिंसक रोकेट हम लोगों के खिलाफ फ़्रांस में भी अपना समर्थन दिया है |

वहीं इजरायली फ़ौरन मिनिस्ट्री के अधिकारी ने यह भी बताया की इजरायल को इस समय उसके डिप्लोमेटिक एफ्फोर्ड का फल मिल रहा है खास कर अमेरिका और यूरोप से उन्होंने कहा की हमे जो दुनियां भर के देशों से डिप्लोमेटिक सपोर्ट मिल रहा है उससे हम काफी खुश है इन सभी स्टेटमेंट्स में कई छोटे और बड़े देशों का नाम दर्ज था लेकिन इन में भारत का नाम गायब था जबकि इजरायली PM बेंजामिन नेतान्याहू और भारतीय प्रधानमन्त्री मोदी दोनों ही एक दुसरे को अपना करीबी दोस्त कहकर सम्बोधित करते है वैसे देखा जाए तो माना भारतीय सरकार की कूटनीतिक मजबूरियां है इसलिए बेशक स्ट्रोंग नही कम से कम इजरायल की तरफ स्टेटमेंट भारतीय सरकार की फ़ौरन मनिस्टरी या स्पोक्स पर्सन को ही दे देनी चाहिए थी खैर इस पर आपकी क्या राय है नीचे कमेंट करके जरूर बताएं ! अच्छा सुनो ! फेसबुक पेज को फॉलो करना न भूलें ! धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published.