माईकल जैक्सन के राज आपने कहीं नहीं सुने होंगे

25 जून 2009 को किंग ऑफ़ माइकल जैक्सन की मौत हुई थी और बहुत से राज उनकी मौत के साथ ही दफ़न हो गये थे और उनमे से एक राज था एंटी ग्रेविटी डांस मूव का है दोस्तों 1987 में माइकल जैक्सन की एल्बम रिलीज हुई थी उसका नाम था स्मूथ क्रिमिनल और उसमे उन्होंने एंटी ग्रेविटी डांस मूव किया था

जिसमे वो 45 डिग्री तक जुक जाते है और वो भी अपनी बैक को सीधा रखते हुए जब ये एल्बम रिलीज हुई थी तब लोगो को विश्वास ही नहीं हुआ तो फिर mj ने यही डांस मूव एक लाइव शो में पर्फ़ोम करके दिखाया तो लोगो के होस उड़ गए गाइज बाद।में बहुत से लोगो ने इससे ट्रिक कहा लेकिन आज भी वह डांस किसी के बस की बात नहीं है

बबल्स के बारे में जानते हैं माइकल जैक्सन को जानवर बहुत पसंद थे। बबल्स नाम की एक चिंपैंजी के साथ उनका एक अलग ही संपर्क था। बबल्स को उन्होंने टैक्सास रिसर्च सेंटर से 1980 में खरीदा था। बबल्स हमेशा जेकशन के साथ जाता था। चिंपैंजी को अपने साथ लेकर जाता है। माइकल के बेडरूम में सोता था।

उनका टॉयलेट यूज तथा मतलब बस उनके परिवार का मेंबर बन गया था। एक बार जैकसन ने कहा भी कि बबल्स छोटे-मोटे काम में उनकी हेल्प करता था। हालांकि घर के नौकरों की इसमें सहमति नहीं थी। वह लोग कैसे की बबल्स बड़ा होने के साथ-साथ हिंसक भी हो गया था। इसलिए उसे चिड़ियाघर में भर्ती करना पड़ा। माइकल बबल को बहुत मिस करता था और बबल साथ 35 साल का हो गया है और फ्लोरिडा में एक अध्ययन में रहता है।

Spider-man आप सब तो जानते हैं। इस फिल्म के बारे में माइकल जैक्सन जैसे बड़े कलाकार थे। उस सिंगर व्हाइटर डांसर एक्टर थे। आप सोच भी नहीं सकते। स्पाइडर मैन बनना उनका सपना था। मार्वल की रचयिता स्तान ली जिससे वह काफी बार मिले थे। एक इंटरव्यू में स्पाइडरमैन खरीदने का प्रस्ताव रखा।

पीटर पारकर की जगह वह करना चाहते थे पर उन्होंने कभी हां नहीं कि उसके बाद माइकल ने मार्वल को खरीदना चाहा पर उसके बाद पता नहीं क्या हुआ, वह नहीं देख पाया। क्यों खरीदना चाहते थे, यह डील क्यों नहीं हुई, उसका हमें अंदाजा नहीं है। इसको पता था। अगर सब ठीक-ठाक चलता तो टो बे की जगह पीटर पारकर या फिर किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन स्पाइडर-मैन बनते माइकल को एक अजीब बीमारी थी।

कुछ लोग सोचते हैं। माइकल उनके वंश को लेकर शर्मिंदा थे और अपनी पूरी जिंदगी लगा दी। उसे ठीक कराने में उन्होंने अपने फेस पर बहुत बार प्लास्टिक सर्जरी की पर यह

बीमारी शरीर के कलर चेंज करने के बाद हुई 1984 में जैक्सन कोविड-19 नाम की बीमारी हुई जिससे उनकी स्किन में सफेद रंग का अच्छा पढ़ने लगा। इसके साथ ही उनको लुपस की बीमारी हुई जिससे उनकी स्किन को धूप में प्रॉब्लम होने लगी। पहले उनके शरीर में बहुत कम विटिलिगो सपोर्ट था

और वह से आसानी से ढक सकते थे। लेकिन बाद में यह बढ़ने लगा। पूरे शरीर में फैलने लगा और वो ढकने की कोशिश करते रहे। यह तो पहली बार सामने आई जब उन्होंने 10 फरवरी, 1993 में ओपरा विनफ्रे के साथ एक इंटरव्यू में कहा, मुझे स्क्रीन की बीमारी है।

यह मुझे तकलीफ देती है, पर मैं ठीक हूं। मैं से कंट्रोल भी नहीं कर सकता। मैं मेरी जिंदगी की इस रेस में प्राउड फील करता हूं। मैं जो भी हूं खुश हूं, मून वोकर माइकल जैकसन सिर संगीतकार नहीं थे। वह एक्टर और दान शील व्यक्ति थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.