महिलाओं के नाक छिदवाने का शास्त्रों में बताया है ये बड़े राज़

लड़किया फेशनेबल और स्टाइलिज दिखने के लिया क्या कुछ नहीं करती है फिर ऐसे में नाक छिदवाना भी एक स्टाइल समझती है यु तो नाक छिदवाना भारतीय सस्कृति और परम्परा के हिसाब से बहुत जरुरी माना जाता है बहुत कम लड़किया जानती है
यह स्त्री की खूबसूरती को बढ़ाने के साथ साथ भारतीय परम्परा के हिसाब से बहुत अच्छा है पहले नाक छिदवाने का चलन कम हो गया था लेकिन आज कल इसका टविन काफी तेजी से चल रहा है आज कल तो लड़किया पेन के हिसाब से कई तरह की नोज़रिंग पहनना पसंद करती है
आज हम आपको बतायेगे की भारतीय परम्परा के अनुसार महिला का नाक छिदवाना क्यों जरुरी समझा जाता है वैसे तो नाक छिदवाने की कोई उम्र नहीं होती है पर ज्यादातर लड़किया बचपन में या किशोर अवस्था में ही नाक छिदवाती है महिला के 16 शृंगार में से एक चीज़ नथ या लॉन्ग पहनना भी है जिसके लिए नाक छिदवाना पड़ता है इसके आलावा नाक छिदवाने का जिक्र वेदो और शास्त्रों में भी लिखा गया है
कहते है की नाक छिदवाने से महिला को माहवारी पीड़ा से राहत मिलती है इसके आलावा सिसु को जन्म देने में आसानी होने के साथ साथ सर के दर्द से भी निजात मिलती है नाक छिदवाने के बाद शरीर की परेसर पॉइंट प्रवाहित होते है जिससे शरीर के खास हिस्सों पर दबाव पड़ता है दबाव पड़ने के कारन जो हार्मोन्स पैदा होते है
उसके कारण दर्द कम होने में मदद मिलती है जिस तरह चाइनीज एक किपेन्जर के जरिये लोगो को दर्द से राहत मिलती है उसी तरह नाक छिदवाने से महिलाओ को कहि दर्द से राहत मिलती हैदोस्तों ये जानकारी आपको पहले से पता थी नहीं तो हमे कमेंट वॉक्स में जरूर बताइये ऐसे ही नए फैक्ट के लिए हमे जरूर बताइये और आप किस टॉपिक पर पड़ना चाहते हो हमे जरूर बताइये और इसे इतना फेलाओ की हर औरत तक ये बात पहुंचे धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.