भारत ने पछाड़ दिया चीन और जापान को | एशिया का सबसे लंबा हाई-स्पीड टेस्ट ट्रैक | भारत का नया रिकॉर्ड |

दोस्तों अब यहां पर भारत ने फिर से एक बार काफी बड़ा कमाल करके दिखा दिया है। दरअसल अब यहां पर देश का ही नहीं बल्कि पूरे एशिया का लांगेस्ट हाई स्पीड टेस्ट ट्रेक फाइनल बनकर तैयार हो चुका है। लोकेशन कि अगर मैं बात करूं तो यह पितमपुर डिस्ट्रिक्ट में लोकेटेड है।

 

 

ऑफ मध्य प्रदेश और एशिया का तो यह सबसे लार्जेस्ट हाई स्पीड तो है ही , लेकिन पूरे वर्ल्ड का यह 5th लार्जेस्ट हाई स्पीड है  | यहां पर आप प्रकाश जावड़ेकर कल ट्वीट भी देख सकते। जहां पर उन्होंने वरसोली तौर से इसका इनॉग्रेशन किया है। इसके अलावा मिनिस्टर ने यह भी बताया कि अब यह जो फाइनल वर्ल्ड क्लास फैसिलिटी इंडिया के भीतर बनकर तैयार हुई है।

नेट पैक डायमेंशन आटोमोटिव टेस्ट ड्राइव तो इसमें तो चाइना और जापान से भी काफी सारे आधुनिक इक्विपमेंट्स मौजूद है | जिसकी कुल लंबाई 11.3 किलोमीटर की और यहां पर फोर लाइंस मौजूद है। पूरी तरह से इंडिपेंडेंट 16 मीटर वाइड के पूरा ट्रक है और आराम से यहां पर जो आराम से वाईकल की 7 टेस्टिंग की जा सकती है| उनकी स्पीड है 35 किलोमिटेर पदार्थ की ऑन कर लेकिन जो स्ट्रीट वाला बात है स्पीड तेज तो यहां पर तो कोई लिमिट तय नहीं की गई है।

 

 

यहां पर जितना चाहे अपने मैक्सिमम स्पीड साइकिल दौड़ सकती है। यह पूरा जो हाई स्पीड टेस्ट ट्रैक है, अब सबसे इम्प्रोर्टेन्ट बाद इस तरह के टेस्ट की हमें जरूरत क्यों पड़ी? वे इसका काफी सिंपल आंसर हैदर सर हमारी जो आटोमोटिव मेनिफेक्चर्स है तो काफी बार ऐसा हो जाता था कि अपने भाई कल सीड टेस्टिंग करने के लिए ही मात्र उन्हें बाहर के देशों को अप्रोच करना पड़ता था ताकि वह इस तरह के टेस्ट ट्रैक को अलाउ करें।

लेकिन अब भारत में इस तरह का बेहद ही वर्ल्ड क्लास हाई स्पीड ट्रेन बन चुका है कि यहां पर तो अब वह कल को बाहर कोई भी देश में जाने की जरूरत ही नहीं है। अब तो ऐसा भी सुनने में आ रहा है कि जो बड़ी-बड़ी स्पोर्ट्स का कंपनी है जैसे कि लेंबोर्गिनी फॉक्सवैगन रेनॉल्ट से यह सब भी इंडिया को क्लोज करें। उन्होंने भी इंटेरस जाहिर किया है कि आने वाले समय में वह इस न्यू फैसिलिटी को यूज करना पसंद करेंगे तो डेफिनेट लिए काफी  प्रॉएड मोमेंट है |

अब यहां पर हाई स्पीड भाई कल से नहीं बल्कि चाय कोई भी कोई भी डिफरेंट टाइप्स ऑफ एनी काइंड ऑफ साइकल्स ऑफ मिलिट्री से रिलेटेड या फिर पैसेंजर सेगमेंट कमर्शियल व्हीकल से भी वही कल कि यहां पर टेस्टिंग भी आराम से की जा सकती है और इसमें काफी सारी बेहद एडवांस्ड टेक्निक्स का यूज किया है।

 

 

जिस तरह के टेक्नोलॉजी अबोहर के हाई स्पीड टेस्ट ट्रैक में देखने मिलते हैं जैसे कि मैक्स स्पीड टेस्ट ब्रेक परफॉर्मेंस कांस्टेंट फ्यूल कंजर्वेशन, एमिशन टेस्ट हाई स्पीड हैंडलिंग ऐसे तमाम ड्युरेबिलिटी टेस्टिंग भी यहां पर पूरी तरह से मॉनिटर किया जा सकता है।

बेहद ही आसानी से तो एक तौर से हम कह सकते हैं कि भारत के ऑटोमोबाइल मेकर्स को अब अपने भाई को बाहर भेजने की कोई जरूरत नहीं है। पाउडर टेस्टिंग और अब यह इंडिया की भीतरी इंदौर में इस तरह के बेहद ही चाहे कोई भी भाई कल तो आसानी से उनके टेस्टिंग कर सकते हैं तो इसमें भी हम आत्मनिर्भर बन चुके हैं। सो दस जनपथ वीडियो एंड थैंक्स फॉर वाचिंग।

Leave a Reply

Your email address will not be published.