भारत की सभी मेट्रो को टक्कर देगी यह मेट्रोनिओ ट्रेंन

नमस्कार दोस्तों आज हम बात करने वाले है भारत के एक ऐसे प्रोजेक्ट के बारे में जो कि ना तो मेट्रो है, ना ही बस है दोस्तों यह प्रोजेक्ट मेट्रो बस दोनों का कॉन्बिनेशन है और यह एक नया कांसेप्ट है। भारत के लिए और इसकी मदद से वातावरण समय और लागत तीनों की बचत की जा सकती है ।

दोस्तों तो हम बात करने वाले हैं मेट्रो न्यू प्रोजेक्ट के बारे में जिसके ऊपर कुछ नए बड़े अपडेट आ चुके हैं तो 200 जाने कि हम इस में इस प्रोजेक्ट के ऊपर सारी डिटेल सारी जानकारी | इस में हम बात कर रहे हैं नासिक में चलने वाली मेट्रो न्यू प्रोजेक्ट या फिर कहने मेट्रो सिस्टम के बारे में दोस्तों वैसे तो इस प्रोजेक्ट की बात 2019 में की गई थी। इसके ऊपर डीपीआर रिपोर्ट्स वगैरह के टेंडर जारी किए गए थे। लेकिन इस प्रोजेक्ट जो है वह कहीं ना कहीं कुछ समय के लिए डिले कर दिया गया था, लेकिन दोस्तो इसी को लेकर के अभी कुछ नए अपडेट आए हैं तो वह सारे अपडेट्स इस रिपोर्ट में हम आपको प्रूफ दिखाएंगे। फिलहाल दोस्तों अभी हम इस प्रोजेक्ट की थोड़ी सी डिटेल के बारे में जानते हैं कि क्या इसकी क्वालिटी होगी। क्या स्पीड होगी। कैसा सिस्टम होने वाला है। यह एक मेट्रो का न्यू कॉन्सेप्ट है। इसलिए इसका जो नाम रखा गया है, वह मेट्रो न्यू रखा गया है और यहां पर यह बहुत कम लागत में बनने वाली मेट्रो न्यू ट्रेंस होंगी जो काफी हद तक सिमरल होगी। बस से लेकिन यहां पर जो है दोस्तों दो से तीन कोचेस एक्स्ट्रा ऐड किए जाएंगे तो यह मेट्रो का रूप ले लेगी और यह पहली इलेक्ट्रिक होने वाली है |

तो बात करें  इस प्रोजेक्ट को जो नाम दिया गया, वह दिया गया है इलेक्ट्रिक। इलेक्ट्रिक ट्रॉली बस बेस ट्रांजिट सिस्टम काफी हद तक से सिमिलर हैं हमारी लाइट मेट्रो से बट यह लाइट मेट्रो नहीं कहला आएगी क्योंकि लाइट मेट्रो में बैटरी फैसिलिटी नहीं होती है और यहां पर जो है हमें मेट्रो नहीं हो मैं बैटरी की फैसिलिटी मिलेगी। यानी कि जब यह ऑन रोड होगी तो यह बैटरी सेवर ऑपरेट होगी और जब यह अपने एलिवेटेड कॉरिडोर पर जाएगी तब यह ohe सप्लाई से लेकसिटी लेकर तब उस पर यह रन करेगी। बात करें। इस प्रोजेक्ट में करीबन 600 से 750 वोल्ट डीसी की सप्लाई से स्कोप ऑपरेट कराया जाएगा। यहां पर दोस्तों मैक्सिमम तीन से चार पहुंचे कोचेस एड किए जाएंगे, जिसमें 200 से लेकर ढाई सौ पैसेंजर एक बार में ट्रेवल कर सकेंगे तो उसको यहां पर हम इसकी स्पीड की बात करें इसकी स्पीड होगी वह होगी 90 किलोमीटर प्रति घंटे  यानि की ऑन एवरेज बहुत अच्छी स्पीड होगी और इससे जो है काफी ज्यादा समय बचाया जा सकेगा। आइये जानते है कि इसके जो दो कॉरिडोर बनने हैं वह कहां से कहां तक बनाए जाएंगे।

तो दोस्तों इसमें जो पहला कॉरिडोर बनेगा, वह बनेगा गंगापुर से लेकर के नासिक रेलवे स्टेशन तक इस में टोटल 20 स्टेशंस को शामिल किया जाएगा और यहां पर यह कॉरिडोर 22 किलोमीटर का होगा। अब बात करें दूसरे कोरिडोर को लेकर के तो यह बनेगा गंगापुर से मुंबई नाका तक के बीच में यह टोटल 10 किलोमीटर का रूट होगा और यहां पर टोटल 10 स्टेशन को जो है, वह शामिल किया जाएगा जो जैसा की के स्टार्टिंग में मैंने आपको बताया था कि इस प्रोजेक्ट की बात जो है 2019 में की गई थी, लेकिन अभी चल रहा है 2021 तो इस प्रोजेक्ट को लेकर के यानी कि 5 नवंबर को भारत सरकार के आवास और शहरी मंत्रालय यानी कि एम ओ एच यू के सचिव ने ट्वीट करके इस कम लागत वाली मेट्रो न्यू ट्रेन को 10 लाख से कम आबादी वाले शहरों में चलाने के कुछ फैसले लिए हैंतो दोस्तों अभी यहां पर सिर्फ इतनी ही पैसे लिए गए क्या जल्दी यहां पर इतने ही फैसले लिए गए है उपनगरों में जल्द से जल्द चालू करने की संभावना बनाई जा रही है। जल्द ही इस पर और भी कई बड़े अपडेट्स आएंगे। दोस्तों एक दूसरा बड़ा अपडेट जहां पर यह है कि यह जो है 13 शहरों को प्रदान की जाएगी। अब तो उसे यहां पर तेरा शहर कौन से होने वाले हैं। इसकी जो मीटिंग होगी वह 9 नवंबर को होने वाली है और यहां पर जो है सारी चीजें क्लियर हो जाएंगे की कितनी जल्दी इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू होगा और कौन से नए शहर है जहां पर जो है, यह मेट्रो न्यू सिस्टम अप्लाई किया जाएगा। धन्यवाद् |

Leave a Reply

Your email address will not be published.