कहि युगो से चला आया हिंदु धर्म पर Nostradamus और Peter Hurkos की चौकाने वाली भविष्यवाणी

हिन्दू धर्म जिसका कोई संस्थापक नही है लेकिन फिर भी दुनियां में यह तीसरा बड़ा धर्म माना जाता है ! देश की सर्वोच्च न्यायपालिका यानिकी सुप्रीम कोर्ट की माने तो हिन्दू धर्म कोई धर्म नही है बल्कि जीने का एक तरीका है जिसमे कर्म को सबसे ज्यादा मान्यता दी गई है ! आखिरकार क्या कहता है हिन्दू धर्म का इतिहास और हिन्दू शब्द की उत्पति कहाँ से हुई है यह सब हम आपको समझाएंगे साथ ही यह भी बताएँगे की हिन्दू धर्म को लेकर दुनिया के महान भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस ने क्या बड़ी भविष्यवाणी की और साथ ही पिटर हर्कोस की माने तो क्या विश्व में हिन्दू धर्म पूरी तरह फ़ैल जाएगा क्या विशव में एक बार फिर हिन्दू धर्म की लहर आएगी आइये जानते है इस रिपोर्ट में !इस्लाम के संस्थापक हजरत मुहम्मद इसा मसीहा ने क्रिशेनेटीक कोपृथ्वी पर फैलाया ! गुरु नानक देव जी ने सिख धर्म की नीव रखी , लेकिन हिन्दू धर्म का कोई संस्थापक नही है फिर भी हिन्दू को राष्ट्र में भारत में हिन्दू धर्म को सबसे ज्यादा माना जाता है ! एक ऐसा धर्म जो जीने का तरीका सिखाता है जिसमे भ्रमांड को तीन रूप ब्रम्हा ,विष्णु और महेश में पूजा जाता है ! एक ऐसा धर्म जिसमे सिर्फ मूर्ति पूजा ही नही की जाती बल्कि प्रक्रति के हर रूप को पूजा जाता है ! पेड़ पौधों से लेकर पथर और गाय की पूजा की जाती है !एकमात्र ऐसा धर्म जो नारी वाद को बढ़ावा देता है बताया है की शक्ति के रूप और देवताओं के बीच ब्रम्हा जी ने किस प्रकार समान अधिकार दिए है !

एक ऐसा धर्म जिसमे देवियों की पूजा किये जाने से यह सन्देश जाता है की पीरियड्स के दौरान महिला अपवित्र नही होती ! जिसका सबसे बड़ा उदाहरण कामाख्या देवी का मंदिर है ! एक ऐसा धर्म जिसमे 33 करोड़ देवी देवताओं की पूजा की जाती है ! ऐसे में सवाल उठता है की जब हिन्दू धर्म का कोई संस्थापक ही नही फिर ये हिन्दू शब्द कहाँ से आया ? क्या कहता है हिन्दू धर्म का इतिहास ? कहाँ से हुई हिन्दू शब्द की उत्पति ? क्या नास्तकिता भी हिन्दू धर्म का हिस्सा है ? धर्म के रिसर्च स्कॉलर डेविड फल्ट की माने तो हिन्दू शब्द असल में हिन्दुस्तान का नही बल्कि फारस या पर्शिया का है ! यह शब्द उन लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाता था जो सिन्धु नदी की दूसरी तरफ रहते थे ! ख़ास तोर पर छठवी सदी में राजा डोरिस के लेखों में इसे देखा जा सकता है यह शब्द उस समय भूगोलिक शब्द की तरह इस्तेमाल किया जाता था और नाकि धर्म की तरह !साल 1995 जब सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया था जिसमे कहा गया था की हिन्दू धर्म असल में कोई धर्म नही बल्कि जीने का एक तरीका है ! क्या आप जानते है की नास्तिकता भी हिन्दू धर्म का हिस्सा है जी हाँ ! हिन्दू धर्म का सबसे अनोखा फैक्ट यह है की नास्तिकता भी इस धर्म का हिस्सा है ! धर्म को उनके द्वारा भगवान को कैसे माना जाता है इस बात पर परिभाषित किया जाता है ! इसमें नास्तिक कोई भगवान को नही मानते ! एकशीर्वाद जिसमें सिर्फ भगवान में यकीन रखते है और वहुदेववाद जो अनेक देवताओं में विश्वास रखते है ! हिन्दू धर्म ही एक ऐसा धर्म है जिसमे तीनो बातें मिलती है ! 33 करोड़ देवी देवता ,एक इश्वर ब्रम्हा इसके अलावा यह धर्म नास्तिकता को भी मानता है की दुनियां में कोई भगवान ही नही बल्कि आत्मा है !

हिन्दू धर्म जो सिर्फ भारत में ही सिमित नही है बल्कि दुनियाभर में इसके हजारों की तादाद में अनुयायी है ! यहाँ तक की अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओवामा ने भी यह बात मानी की जेब में रखी हनुमान जी की प्रतिमा उन्हें प्रेरणा देती है ! नास्त्रेदमस साढ़े चार सो साल पहले उनका न तो बीजेपी से , न ही PM मोदी से , न ही देश की राजनीती से कोई कनेक्शन था लेकिन फिर भी उन्होंने बता दिया था की एक नये नेता के साथ भारत एक नये युग में प्रवेश करेगा और हिन्दू धर्म को लेकर भी उन्होंने जो चोंकाने बाली भविष्यवाणी की उसे पूरी दुनियां ने देखा !हिन्दू धर्म को लेकर नास्त्रेदमस ने लिखा तबाह कर देंगे पुस्तकालय को एक समय एसा आएगा जब वेपढ़े लोग पढ़े लिखे की सभ्यता को नष्ट कर देंगे ! ऐसा दुर्लभ ज्ञान नष्ट कर दिया जाएगा जो वापस नही पाया जा सकेगा ! नास्त्रेदमस की इस भविष्यवाणी को नालंदा , तक्षिला और विक्रम शिला से जोड़ कर देखा जाता है ! जो प्राचीन भारत के उच्च शिक्षा केंद्र रहे है मुस्लिम आक्रान्ताओं ने हिन्दुओं को चोट पहुँचाने के लिए न सिर्फ भगवानो की मूर्ति पर प्रतिवंध लगाकर उनकी आस्था को चोट पहुँचाया बल्कि भारत की सभ्यता और शिक्षा के केन्द्रों को भी नष्ट कर दिया !इसके अलावा अपनी भविष्यवाणी में नास्त्रेदमस ने लिखा की सागरों के नाम बाला धर्म चाँद पर निर्भर रहने बालों के मुकाबले तेज़ी से उभरेगा ! उसे घायल कर देंगे ! यह चाँद को सबसे ज्यादा मानने बाला धर्म इस्लामको देखा जाता है और हिन्द महासागर से निकला धर्म हिन्दू को माना जाता है !

अपनी कविताओं के जरिये नास्त्रेदमसहिन्दू धर्म के उथान के साफ़ साफ़ संकेत दिए है ! नास्त्रेदमस ने ही 500 साल पहले इस बात की भविष्यवाणी कर दी थी की वो अपने शासन की ओर वापस आएगी ! उसके दुश्मन उसके खिलाफ षड्यंत्र करेंगे वोविजेता बनकर उभरेगी लेकिन 3 से 70 वर्ष में मौत सुनिश्चित है ! दशकों पूर्व नास्त्रेदमस की आँखों ने देख लिया था की महान पायलेट एक देश का राजा बनेगा वो एक खाली जगह को भरेगा लेकिन 7 वर्ष के बाद उसका सम्राज्य खत्म होगा और उसे सेना के एक राजद्रोह का सामना करना होगा नतीजन घोटालें के दागों ने राजीव गांधी की इमानदारी छवि को प्रभावित किया !महान भविष्य वक्ता नास्त्रेदमस ने 9 11 हमले पर कह दिया था की धरती के केंद्र से एक ज्वालामुखी फटेगा ! इसके साथ एक नये अरसु का जन्म होगा ! 1999 के सातवे भाग के आतंक का एक नया महाराज होगा यहाँ पर लोग सेंटर ऑफ़ अर्थ का अंदाजा वर्ल्ड ट्रेड से लगाते है और आरसु को ओसामाबिन लादेन से जोड़कर देखते है ! यह नास्त्रेदमस की वो भविष्यवाणी है जो अब तक सच सावित हो चुकी है और अब जो हिन्दू धर्म को लेकर बड़ी भविष्यवाणी की है कि आने बाले भविष्य में हिन्दू धर्म का उथान होगा !भले ही नास्त्रेदमस ने अपनी भविष्यवाणीयों में हिन्दू धर्म के उथान के सिर्फ संकेत दिए हों लेकिन पिटर हर्कोस ने यह साफ़ साफ़ वयान कर दिया था की आने बाले भविष्य में पूरे विश्व में हिन्दू धर्म छा जाएगा या फिर यूँ कहें की क्या सच में आने बाले भविष्य में क्या पूरी दुनियां हिन्दू धर्म को मानने लगेगी ? होलेन्ड में रहने बाले पिटर हर्कोस को न ही ज्योतिष , न ही हस्तरेखा और न ही निमोलोजी का ज्ञान था फिर भी उनकी तुलनामहाभारत के संजय से की जाती है !

जो अपने तीसरे नेत्र से भविष्य में होने बाली घटनाओं के बारे में बता सकते है ! भविष्य की घटनाओं को देखने का एहसास पिटर हर्कोस को एक दुर्घटना के बाद हुआ बताया जाता है की जिन दिनों वो अस्पताल में थे तब उन्होंने ठीक होकर जा रहे एक व्यक्ति को रुकाया और कहा की मित्र मेरी बात मानो तो तुम अभी बाहर मत निकलो जर्मन जासूस तुम्हें ढूंढ रहे है और वो तुम्हें देखते ही गोली मार देंगे ! पिटर की बात अनसुनी कर वो शक्स आगे बढ़ गया और बाहर जा चुके शक्स को कुछ ही देर बाद गोलियों से भुन दिया गया ! तभी सेपिटर हर्कोस की बातों को लोग गम्भीरता से लेने लगे ! लेकिन जब महान भविष्य वक्ता पिटर हर्कोस ने हिन्दू धर्म को लेकर भविष्यवाणी की तो हर कोई हैरान रह गया ! उन्होंने कहा था की भारत में आध्यात्मिकता तथा धार्मिकता की जो लहर उठेगी वह सारे विश्व में छाजाएगी ! यानिकी भविष्य में हिन्दुत्व की लहर समूचे विश्वमें दिखेगी !तो कर्म प्रधान हिन्दू धर्म के बारे में आप जितना जानते जाएंगे उतना ही आपको कम लगेगा ! हिन्दू धर्म और हिन्दुत्व को लेकर आप क्या सोचते है और आप किसी तरह की विडियोज चाहते है की धर्म ज्ञान आगे बढाएं !प्लीज हमे कमेंट करके जरूर बताएं ! (रिकॉर्डिंग )

Leave a Reply

Your email address will not be published.